Saturday , Nov 25 2017

लोकप्रिय ख़बरें

जानिए, मंगल दोष के लक्षण और इसके निवारण के उपाय !

Rochak Khabare
04, Nov 2017, 11:32

471 इंटरनेट डेस्क: वैदिक ज्योतिष में मंगल दोष शायद सबसे खतरनाक दोष है। किसी व्यक्ति की शादी होने पर सबसे पहले इस दोष के बारे में जानकारी ली जाती है। यह दोष मंगल ग्रह की उग्र प्रकृति के कारण होता है जब यह व्यक्ति की जन्म कुंडली में 1, 2, 4, 7, 8 या 12वें घर में मौजूद होता है। इन घरों में अन्य अशुभ ग्रहों के साथ मंगल ग्रह और अधिक हानिकारक हो सकता है। एक व्यक्ति जिसे यह दोष होता है, उसको मांगलिक कहा जाता है। यह दोष भोम, कुजा या अंगारखा दोष के नाम से भी जाना जाता है। इस दोष पुरुषों और महिलाओं दोनों को हो सकता है। चूंकि मंगल एक गर्म ग्रह है, यह अहंकार, उच्च आत्मसम्मान, गर्व औरगुस्सैल स्वभाव का प्रतिनिधित्व करता है। यही कारण है कि मंगल दोष के साथ व्यक्ति को अपने साथी के साथ समझौता और समायोजन करने में मुश्किल होती है। मंगल दोष से व्यक्ति पर वित्तीय नुकसान जैसे अन्य प्रभाव भी हो सकते है। व्यक्ति में ऊर्जा को गतिशील बनाये रखने के लिए इस दोष के असर को कम करना बहुत जरुरी है। व्यक्ति की कुंडली में विभिन्न घरो में मंगल ग्रह के उपस्थित होने से मंगल दोष का प्रभाव #8211; 1. जब मंगल पहले घर में होता है #8211; चूंकि पहला घर जीवनसाथी का घर है, इसलिए जब एक मांगलिक का विवाह अमांगलिक से होता है, तो इस वजह से दोनों के बीच अनावश्यक संघर्ष होता है, जो कि कई बार शारीरिक हिंसा तक भी पहुँच जाता है। यह तलाक और अलग होने की वजह से सामान्य विवाहित जीवन को प्रभावित करता है। 2. जब मंगल दूसरे घर में होता है #8211; जब मंगल ग्रह कुंडली के दूसरे घर में सक्रिय और नकारात्मक होता है, तो यह विवाह और व्यक्ति विवाहित जीवन को नुकसान पहुंचाता है, जिससे तलाक और दूसरा विवाह हो सकता है। 3. जब मंगल चौथे घर में होता है #8211; कुंडली के चौथे घर में मंगल ग्रह पेशेवर व्यक्तियों को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है और यह उसे अपनी नौकरी से असंतुष्ट रखता है, जिससे कि वह बार बार अपनी नौकरी बदलता रहता है। 4. जब मंगल सांतवे घर में होता है #8211; सांतवे घर में मंगल ग्रह का होना व्यक्ति को गुस्सैल बनाता है। वे दुसरो पर हावी होने की और परिवार के सदस्यों पर जबरदस्ती अपनी राय थोपने की कोशिश करते है, जिसके परिणामस्वरूप गलतफहमी और घरेलू संघर्ष हो सकते है। 5. जब मंगल आठवे घर में होता है #8211; आठवे घर में मंगल की उपस्थिति व्यक्ति को आलसी बनाता है। इस वजह से व्यक्ति कुछ समय के लिए अनियमित मूड दिखाएगा और अचानक गुस्सा हो जाता है जिससे घर के अन्य सदस्यों को परेशानी हो सकती है। इस घर में मंगल व्यक्ति को कामुक रूप से बहुत ज़्यादा सक्रिय बनाता है। मंगल के इस घर में होने से व्यक्ति दुर्घटनाओं का शिकार भी हो सकता है। 6. जब मंगल ग्रह बारहवें घर में होता है #8211; इस घर में मंगल व्यक्ति में मानसिक अशांति पैदा करेगा और विफलता की भावना उसे परेशान करेगी। यह उनके स्वभाव में आक्रामकता शामिल करके लोगों के साथ व्यवहार करते समय समस्या पैदा करता है। इस घर में मंगल की उपस्थिति अन्य लोगों के साथ गैरकानूनी कार्यों में शामिल होने की इच्छा प्रदान करेगा। मंगल दोष को खत्म करने के तरीके #8211; 1. अगर मंगल दोष के साथ व्यक्ति का जन्म मंगलवार को होता है, तो इस दोष का असर खत्म हो जाता है। 2. जब दो मांगलिक व्यक्तियों की शादी होती हैं, तो इस दोष का प्रभाव दोनों के लिए समाप्त हो जाता है और उनका वैवाहिक जीवन सुखी रहता है। 3. हिंदू वैदिक ज्योतिष के अनुसार एक व्यक्ति के मंगल प्रभाव को केले पीपल के पेड़ या फिर भगवान विष्णु की चांदी सोने की मूर्ति के साथ विवाह कर के समाप्त किया जा सकता है। The post जानिए, मंगल दोष के लक्षण और इसके निवारण के उपाय ! appeared first on न्यूज फिलर.

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved