Saturday , Nov 25 2017

लोकप्रिय ख़बरें

स्त्री हो या पुरुष ध्यान रखें चाणक्य की ये 25 नीतियां, नहीं होगा कभी नुकसान

Dainik Bhaskar
09, Nov 2017, 11:30

चाणक्य चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे। वे कौटिल्य नाम से भी प्रसिद्ध हैं। उन्होंने नंदवंश का नाश करके चन्द्रगुप्त मौर्य को राजा बनाया। उनके द्वारा रचित अर्थशास्त्र राजनीति, अर्थनीति, कृषि, समाजनीति आदि का महान ग्रंथ है। उन्होंने चाणक्य नीति नामक ग्रंथ की भी रचना की थी। यहां जानिए चाणक्य के कुछ अनमोल वचन... 1. हर मित्रता के पीछे कोई ना कोई स्वार्थ जरूर होता है। ऐसी कोई मित्रता नहीं, जिसमें स्वार्थ ना हो। यह कड़वा सच है। 2. व्यक्ति अकेले पैदा होता है और अकेले मर जाता है; और वो अपने अच्छे और बुरे कर्मों का फल खुद ही भुगतता है और वह अकेले ही नर्क या स्वर्ग जाता है। 3. भगवान मूर्तियों में नहीं है। आपकी अनुभूति आपका ईश्वर है। आत्मा आपका मंदिर है। 4. अगर सांप जहरीला ना भी हो तो भी उसे खुद को जहरीला दिखाना चाहिए। 5. इस बात को व्यक्त मत होने दीजिए कि आपने क्या करने के लिए सोचा है, बुद्धिमानी से इसे रहस्य बनाएं रखें और इस काम को करने के लिए दृढ़ रहें। 6. शिक्षा सबसे अच्छी मित्र है। एक शिक्षित व्यक्ति हर जगह सम्मान पाता है। शिक्षा सौंदर्य और यौवन को परास्त कर देती... आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए न्यूज फिलर ऍप डाउनलोड करें

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved