Wednesday , Nov 22 2017

लोकप्रिय ख़बरें

जीएसटी-नोटबंदी पर देश मांग सकता है इस्तीफा

Rajasthan Patrika
15, Nov 2017, 12:30

अहमदाबाद।जीएसटी और नोटबंदी को पूरी तरह विफल बताते हुए पूर्व केन्द्रीय वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने कहा कि देश वित्त मंत्री अरुण जेटली से इन दोनों कदमों के कारण इस्तीफा मांग सकता है। इनके कारण धीमी हुई अर्थव्यवस्था के लिए देश और देश के लोगों को जेटली से इस्तीफा मांगना उनके अधिकारों के तहत आता है। जीएसटी में कमियों के लिए जेटली जिम्मेदार हैं। जेटली चित भी मेरी और पट भी मेरी... के सिद्धांत पर विश्वास रखते हैं। वे गड़बड़ कर व्यवस्था लागू करने का श्रेय नहीं ले सकते। लोकशाही बचाओ आंदोलन के बैनर तले गुजरात का दौरा कर रहे सिन्हा ने अहमदाबाद में मंगलवारद को कहा कि वे किसी भी तरह की राजनीतिक टिप्पणी नहीं करेंगे, लेकिन देश के एक आम नागरिक के रूप में उनका देश की आर्थिक स्थिति पर चिंता को लेकर बोलना जरूरी है। अच्छी कर प्रणाली के चक्कर में सब चौपट चंद्रशेखर के साथ-साथ वाजपेयी सरकार में वित्त मंत्री रह चुके सिन्हा ने जोर देकर कहा कि जीएसटी पर हम सफल नहीं हुए। जीएसटी एक बहुत अच्छी कर प्रणाली है, लेकिन जिस तरह से उसे लागू किया गया। इस कारण समस्याओं के समाधान के बजाय इसमें और इजाफा होता गया। जेटली की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि जीएसटी का एडहॉक अमलीकरण किया जा रहा है। जीएसटी और नोटबंदी के कारण देश को दो बार आर्थिक झटके लगे। छोटे व्यापारियों को समस्याओं का सामना करना पड़ा। इसके फॉर्म काफी जटिल हो गए। एक अच्छी कर प्रणाली को लागू करने में हमने सब कुछ चौपट कर दिया। अब जीएसटी एक खराब नाम का रूप ले रही है। इसके अमलीकरण में आमूलचूल परिवर्तन की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि पूर्व वित्त सचिव विजय केलकर ने वर्ष 2003 में पहली बार जीएसटी का सुझाव दिया था। अब सरकार को केलकर की अध्यक्षता में एक टीम बनाकर जीएसटी काउंसिल के प्रतिदिन बातचीत करनी चाहिए कि किस तरह जीएसटी सरल व सुलभ बने। दिसम्बर और जनवरी दो महीने का वक्त है। इसके बाद 1 फरवरी 2018 को बजट पेश करते समय जीएसटी को सरल करने की बात कही जाए।

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved