Thursday , Nov 23 2017

लोकप्रिय ख़बरें

BJP सरकार के इस निर्णय को उन्हीं की पार्टी के दबंग MLA ने दिखाया ठेंगा, मच गया बवाल, जानिए पूरा माजरा

Rajasthan Patrika
15, Nov 2017, 05:00

अजय खरे। गन्ना किसानों को उनकी उपज की सही कीमत दिलाने के लिए प्रशासन ने एक दिन पहले ही तय किया कि जिले में 300 रुपए प्रति क्विंटल की दर से गन्ने की खरीदी होगी। लेकिन फैसले के अगले ही दिन भारतीय जनता पार्टी के विधायक की शुगर मिल में इस व्यवस्था को तार-तार कर दिया गया। तेंदूखेड़ा से भाजपा विधायक संजय शर्मा की वंशिका शुगर मिल में मंगलवार को किसानों से मात्र 270 रुपए प्रति क्विंटल पर खरीदी की गई। पत्रिका द्वारा मामला उजागर किए जाने के बाद विधायक संजय शर्मा गन्ना खरीदी की कीमत तय होने की बात को ही नकार गए। वहीं कलेक्टर ने किसानों को 300 रुपए के भाव से ही भुगतान सुनिश्चित करवाने की बात दोहराई है। आंदोलन के बाद तय हुई थी दर नरसिंहपुर में किसान कुछ दिनों से आंदोलन पर थे। वे गन्ने की उचित कीमत नहीं मिलने से नाराज थे। सोमवार को अचानक किसानों का आंदोलन तेज हो गया था। कांग्रेस के नेतृत्व में भारी संख्या में किसान कलेक्ट्रेट पहुंचे थे। इसके बाद जिला प्रशासन ने सोमवार को देर शाम शुगर मिल मालिकों, जन प्रतिनिधियों के साथ मैराथन बैठक की थी। इसके बाद तय हुआ था कि गन्ना की खरीदी 300 रुपए प्रति क्विंटल की दर से होगी। 2 लाख टन गन्ना खरीदती है वंशिका शुगर मिल वंशिका शुगर मिल हर साल किसानों से करीब 2 लाख टन गन्ना खरीदती है। मिल के लिए 6 हजार हेक्टेयर से अधिक का क्षेत्र आरक्षित किया जाता है। गन्ना के उचित रेट न मिलने और किसान आंदोलन की वजह से इस बार जहां अन्य मिलों ने क्षेत्र के किसानों से गन्ना नहीं खरीदा था। वहीं संजय शर्मा की वंशिका मिल ने कुछ दिन पहले किसानों से 270 रुपए प्रति क्विंटल के भाव से खरीदी चालू कर दी थी। सोमवार को अधिकृत तौर पर प्रशासन द्वारा 300 का रेट तय किए जाने के बावजूद मंगलवार को भी वंशिका मिल द्वारा 270 के रेट से ही किसानों का हजारों क्विंटल गन्ना खरीदा गया। जिले में 8 शुगर मिलें नरसिंहपुर में गन्ना बहुतायत में पैदा किया जाता है। गन्ना की उपलब्धता के कारण क्षेत्र में ही 8 शुगर मिलें है जो किसानों से गन्ना खरीदी करती हैं। इसमें तेंदूखेड़ा क्षेत्र के बिलगवां में भाजपा विधायक संजय शर्मा की वंशिका शुगर मिल भी है। एक एकड़ पर 9 हजार का नुकसानसबसे छोटी इकाई यानी एक एकड़ में करीब 300 क्विंटल गन्ना पैदा होता है। किसानों को हर क्विंटल पर 30 रुपए का नुकसान उठा कर गन्ना बेचना पड़ा। ऐसे में एक एकड़ का गन्ना बेचने पर किसान को कम से कम 9 हजार रुपए का नुकसान उठाना पड़ रहा है। उल्लेखनीय है कि एक ट्रैक्टर ट्रली में 60 से 80 क्विंटल गन्ना आता है। विधायक संजय शर्मा से सीधी बात पत्रिका- जिले में 300 रुपए प्रति क्विंटल का रेट तय किया गया आप 270 के रेट से खरीद रहे हैं। शर्मा- यह सही है कि हम 270 के रेट से खरीद रहे हैं पर अभी बुरहानपुर की सहकारी मिल ने 300 का रेट घोषित नहीं किया है। पत्रिका- किसान शुरू से ही 300 के रेट की मांग कर रहे थे पर आपने उन्हें यह रेट क्यों नहीं दिया। शर्मा- केंद्र सरकार ने 255 रुपए प्रति क्विंटल की सपोर्टिंग प्राइज तय की है उससे तो हम ज्यादा ही दे रहे हैं। पत्रिका- किसानों की 300 के रेट की मांग के बीच अन्य मिलों ने जहां रेट तय होने का इंतजार किया वहीं आपने 270 के रेट से खरीदने की जल्दबाजी क्यों की। शर्मा- हमने किसानों के हित में खरीदी शुरू की है, खेतों से गन्ना कट कर आने से किसानों के खेत खाली हो जाएंगे और वे समय पर बोवनी कर सकेंगे। बैठक का फैसला पालन करना होगा कलेक्टर के अभय वर्मा के अनुसार जिले में गन्ना का रेट 300 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया जा चुका है, अब सभी मिल मालिकों को 300 की दर से ही किसानों को भुगतान करना होगा। बैठक में लिए गए निर्णय का पालन कराया जाएगा।

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved