Saturday , Nov 25 2017

लोकप्रिय ख़बरें

भोपाल गैंगरेप के बाद महिला संबंधी गंभीर अपराध सुलझाएगी स्पेशल टीम

Rajasthan Patrika
15, Nov 2017, 05:00

रीना शर्मा विजयवर्गीय@ इंदौर. भोपाल में गैंग रेप के बाद पुलिस और डॉक्टरों के रवैये के बाद से जनता में जो आक्रोश दिखा था उसके बाद से पूरे प्रदेश की पुलिस सक्रिय हो गई है। पहले तो यह कोशिश की जा रही है कि ऐसे कोई हादसा हो ही ना यदि हो जाए तो उसे जल्द-जल्द से सुलझा दिया जाए। भोपाल में गैंग रेप के बाद महिलाओं संबंधी अपराधों को लेकर पुलिस गंभीर है। महिलाओं से जुड़े गंभीर मामलों में जांच की जिम्मेदारी अब महिला अपराध सेल की विशेष टीम की होगी। विभाग का दावा है, इससे जांच में तेजी आएगी। २५ दिन में चालान पेश होने और स्पीड-अप ट्रायल से पीडि़ता को जल्द न्याय मिलेगा। प्रदेश में दुष्कर्म और छेड़छाड़ के मामलों में बढ़ोतरी के साथ घटना के बाद पीडि़ता की परेशानियों को देखते हुए एडीजी अरुणा मोहन राव ने बैठक ली, जिसमें निर्णय लिया गया कि महिला अपराध शाखा ऐसे गंभीर मामलों की विवेचना करेगी। डे टू डे बेसिस पर विवेचना होगी। २५ दिन में चालान पेश किया जाएगा। 15 जिलों के गंभीर अपराध सुलझाएगी शाखाइंदौर व उज्जैन संभाग के १५ जिलों में महिला संबंधी गंभीर अपराधों की जांच महिला अपराध शाखा की स्पेशल टीम करेगी। इसके लिए सभी थानों से मामले महिला शाखा की स्पेशल विंग के पास पहुंचेंगे। यहां बनेगी स्पेशल टीमइंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर। 120 का अमला, टीम हो रही तैयारइंदौर महिला अपराध शाखा में ८ डीएसपी, १२ टीआई और एसआई व एएसआई, हेड कांस्टेबल और हवलदार समेत १२० का अमला है। इनसे ही स्पेशल टीम बन रही है। चार महानगरों में बनी टीमशासन ने प्रदेश के चार महानगरों में डीआईजी स्तर के अधिकारियों की पदस्थापना की है, जो महिला अपराधों का पर्यवेक्षण करेंगे। गंभीर स्थितियों में पुलिस मुख्यालय के माध्यम से महिला प्रकोष्ठ के माध्यम से विवेचना करेंगे। इसके लिए स्पेशल टीम तैयार हो चुकी है। महिला संबंधी अपराध खासतौर पर दुष्कर्म केस में लेटलतीफी और लापरवाही नहीं बरती जाएगी। - गौरव राजपूत, डीआईजी, महिला अपराध शाखा

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved