Thursday , Dec 14 2017

लोकप्रिय ख़बरें

वैज्ञानिकों का दावा! आसमान से बरसा था सोना

Rajasthan Patrika
07, Dec 2017, 11:30

img-responsive img-w855x450 mt-top mt-bottom gold इनकी शोध के मुताबिक पृथ्वी के अस्तित्व में आने के शुरुआती वक्त में इससे लगभग एक चांद के आकार का भूमंडलीय पिंड टकराया था, जिसकी वजह से धरती पर सोना और प्लैटिनम जैसे बहुमूल्य धातु आए या कहें गिरे। अध्ययन करने वाली वैज्ञानिकों की टीम के अनुसार इस टक्कर के बाद पृथ्वी पर आने वाले धातुओं की मात्रा पहले के अनुमानों से अधिक है और इसके प्रभाव ने पृथ्वी को धरातल तक बदलकर रख दिया। नासा की मदद से साउथवेस्ट रिसर्च इंस्टिट्यूट और यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड के शोधकर्ताओं ने यह अध्ययन किया। यह स्टडी नेचर जियोसाइंस जर्नल नाम की एक पत्रिका में छपी है।
img-responsive img-w855x450 mt-top mt-bottom gold इस स्टडी के अनुसार हमेशा से ग्रहों का टकराव ही हमारे सौर मंडल के गठन के मुख्य कारण रहे हैं। वैज्ञानिक लंबे वक्त से ऐसा मानते रहे हैं कि चांद के अस्तित्व में आने के बाद, पृथ्वी ने अपनी रचना के शुरुआती समय में लंबे समय तक पिंडों से टकराव के बाद कई धमाके झेले हैं। यह धमाके अरब साल पहले बंद हो गए थे। इस समय को लेट अक्रीशन का नाम दिया गया। लेट अक्रीशन दौरान चंद्रमा के आकार के बड़े भूमंडलीय पिंडों के आपस के टकराव के कारण व्यापक रूप में धातु और चट्टान बनाने वाले खनिज धरती की सतह और आंतरिक भाग में पहुंच गए। वैज्ञानिकों का कहना है कि धरती के मौजूदा भार का प्रतिशत हिस्सा इन टकरावों की वजह से धरती पर पहुंची चीजों की वजह से हुआ। एक नए अध्ययन से पता चला है कि कैसे भयानक टक्करों के कारण धरती पर सोने जैसा घातु पहुंचा और प्लैटिनम जैसे बहुमूल्य धातु की तभी से अस्तित्व में होने की सम्भावना है।

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved