Thursday , Aug 17 2017

लोकप्रिय ख़बरें

स्कूल में शौचालय तो है पर स्वीपर नहीं, चारों ओर है गंदगी का आलम

Rajasthan Patrika
12, Aug 2017, 08:00

बेमेतरा . केंद्र व राज्य सरकार के निर्देश पर पूरे देश में एक ओर स्वच्छ भारत अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत सभी लोगों को शौचालय बनाने, उसका उपयोग करने और सफाई पर ध्यान देने के लिए जागरुक किया जा रहा है। वहीं जिले के स्कूलों में स्वच्छता की अनदेखी की जा रही है। विद्यार्थी गंदगी के बीच पढऩे के लिए विवश हैं। जिले के कई स्कूलों में स्वीपर का पद भी रिक्त होने की वजह से स्कूल की सफाई नहीं हो रही है। इसका प्रमाण शासकीय हाईस्कूल उफरा में देखा जा सकता है। शौचालय की नहीं हो रहीसाफ-सफाईइस स्कूल के शौचालय में भयानक गंदगी है। यहां पर शौचालय की साफ-सफाई नहीं हो रही है। स्कूल में स्वीपर नहीं होने के कारण चारों ओर गंदगी व्याप्त है। स्कूल में पानी की समस्या भी है। गंदगी के कारण स्कूल में विद्यार्थियों की पढ़ाई बाधित हो रही है। इस स्कूल में कक्षा नवमीं में 81 एवं कक्षा दसवीं में 61 बच्चे अध्ययनरत् हैं। ग्रामीणों की सूचना में जिला पंचायत अध्यक्ष कविता साहू ने स्कूल का निरीक्षण किया। जिसमें स्कूल में कई खामियां सामने आई। निरीक्षण के दौरान शासकीय नवीन हाईस्कूल उफरा के प्राचार्य ने जिला पंचायत अध्यक्ष को लिखित रूप से बिजली एवं अन्य समस्याओं के निराकरण के लिए आवेदन दिया है।भवन में अभी से नजर आने लगी खामियांजिला पंचायत अध्यक्ष कविता साहू ने बताया कि लोक निर्माण विभाग द्वारा 58 लाख से निर्मित शा.हाई स्कूल भवन उफरा का लोकार्पण हुए मात्र 14 माह हुए हैं पर भवन में अभी से खामियां नजर आने लगी है। साथ ही भवन हैंडओवर होने के बावजूद स्कूल में बिजली की व्यवस्था नहीं हो पाई है। उन्होंने बताया कि भवन निर्माण में घटिया सामग्री उपयोग होने के कारण भवन की दीवारों का प्लास्टर उखडऩे लगा है और उबड़-खाबड़ हो हो गया है। इसी तह फ्लोरिंग भी उखडऩे लगी है। स्कूल की गेट का दरवाजा भी गुणवत्ताहीन है। गोंडगिरी एवं गुधेली स्कूल का भी किया निरीक्षण बारिश का पानी कक्षा के भीतर पहुंच रहा है। टेबल-कुर्सी टूटी-फूटी है। स्कूल के खिड़की-दरवाजे में लोकल लकड़ी से बनाए गए हैं। स्कूल के प्राचार्य ने जिपं अध्यक्ष को समस्याओं के निराकरण के लिए आवेदन भी सौंपा है। जिसे पर जिपं अध्यक्ष ने संबंधित अधिकारी का ध्यान आकर्षित कराया है। इससे पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष ने ग्राम गोंडगिरी एवं गुधेली स्कूल का भी निरीक्षण किया। इस अवसर पर एनएसयूआई के प्रदेश संयोजक दीपक खत्री, रूपेश शर्मा, कुशाल नायक, प्राचार्य वीके सोनी, गणेशराम साहू, हेमंत कुमार बघेल, निशा शर्मा, केशवराम पटेल, माया देवी सहित स्कूल के कर्मचारी उपस्थित थे। बिजली-पानी के बिना लोकार्पण पर उठे सवाल स्कूल में बिजली-पानी की व्यवस्था किए बिना लोकार्पण कर दिए जाने से सवाल उठने लगे हैं। यही नहीं लोकार्पण के बाद भी इन दोनों बुनियादी सुविधाओं को मुहैया कराने की दिशा में कोई पहल नहीं की गई है। जिससे स्कूल स्टॉफ व विद्यार्थी परेशान हैं। स्कूल के प्राचार्य ने बताया कि स्कूल में बिजली आज तक नहीं लग पाया है, जिसके चलते पढ़ाई में समस्या एवं परेशानियों का सामना करना पड़ता है। गर्मी-उमस से परेशान होकर बच्चे बार-बार कमरे से बाहर निकल जाते हैं। प्राचार्य ने आवेदन में यह भी दर्शाया है कि ट्रांसफार्मर से शाला परिसर में लाइन लाने के लिए दो पोल की जरूरत है तथा स्कूल परिसर में पीने की पानी की व्यवस्था नहीं है। बाहर से पानी लाना पड़ता है।

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved