Thursday , Aug 17 2017

लोकप्रिय ख़बरें

तांदुला नदी पर बनेगा 220 मीटर लंबा पुल

Rajasthan Patrika
12, Aug 2017, 08:30

बालोद. देश को आजादी मिलने से पहले तांदुला नदी पर की जा रही पुल निर्माण की मांग अब जाकर पूरी हुई है। तांदुला नदी पर ग्राम देउरतराई और आंवराभाठा को जोडऩे बनाए जाने वाले जिले के सबसे लंबे पुल के लिए लेआउट का काम शुरू कर दिया गया है। अगले साल इसी समय तक पुल निर्माण का काम भी शुरू हो जाएगा। इस पुल का बनना क्षेत्र के लोगों के लिए एक सपने के सच होने के जैसा है। बता दें कि तांदुला जलाशय प्रदेश का तीसरा सबसे बड़ा जलाशय है। 105 साल पुराना यह जलाशय बारिश के दिनों में लबालब होने पर ओवरफ्लो पानी तांदुला नदी पर बहने लगता है, जिससे आवराभाठा व देवतराई को जोडऩे तांदुला नदी पर बने रपटे के ऊपर से पानी बहने लगता है, और यह मार्ग आवागमन के लिए बंद हो जाता है। नदी में पानी की धार कम नहीं होने तक मार्ग नहीं खुलता, जिससे दोनों गांव के लोगों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इससे ज्यादा परेशानी ग्राम देवतराई के लोगों को होती है, क्योंकि उन्हें जिला मुख्यालय पहुंचने के लिए 2 किमी की बजाए सिवनी मुख्य मार्ग से होते हुए 7 किमी का सफर करना पड़ता है।4 करोड़ की लागत से बनेगा पुलग्रामीणों की ओर से लंबे समय से की जा रही मांग को पूरा करने के लिए तांदुला नदी पर बनाए जा रहे जिले के सबसे लंबे पुल के निर्माण पर करीब चार करोड़ की लागत आएगी। सेतु निर्माण विभाग राजनांदगांव से मिली जानकारी के मुताबिक, 220 मीटर लंबा और 8 मीटर चौड़ा यह पुल जिले का सबसे बड़ा पुल होगा, जिसकी जमीन सतह से ऊंचाई पांच मीटर होगी। इस पुल का निर्माण तांदुला नदी में अंग्रेजों के समय के बने सुरंगनुमा पुल के ठीक बगल से किया जाएगा। आवागमन के साथ बढ़ेगा पर्यटनइस पुल निर्माण से जहां लोगों को जहां जिला मुख्यालय से आने-जाने में सहुलियत होगी, वहीं जिले में पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। तांदुला जलाशय को देखने के लिए जिले सहित अन्य जिले व प्रदेश के लोग आते हैं, लेकिन तांदुला नदी पर बाढ़ आने की स्थिति में लोग तांदुला के एक ही छोर की सुंदरता देख पाते थे। पुल निर्माण के बाद अब पर्यटक दोनों छोर की सुंदरता देख पाएंगे। जिसने सुना दौड़ा चला आयाशनिवार को तांदुला नदी पर पुल बनाने के लिए अधिकारियों के आने की बात सुनकर ग्राम देउरतराई और आवराभाठा के लोग दौड़े चले आए। पुल के लिए लेआउट तैयार कर रहे अधिकारियों के आसपास ग्रामीण जुट गए। पुल निर्माण की खबर मात्र से उनके चेहरे खिले हुए थे क्योंकि इस पुल के लिए उन्होंने काफी संघर्ष किया है। लेआउट तैयार करने सेतु विभाग के इंजीनियर, एसडीओ व अन्य अधिकारी जुटे हुए थे। पुल निर्माण से क्या होगा लाभनदी पर 105 साल पुराने रपटे से मिलेगी निजात, बरसात के दिनों में भी बिना परेशानी ग्रामीण जिला मुख्यालय आना-जाना कर पाएंगे। छात्र-छात्राओं को पढ़ाई के लिए जिला मुख्यालय आने-जाने में नहीं होगी परेशानी। एक साल के भीतर होगा निर्माणसेतु विभाग राजनांदगांव के ईई एसवी पंडेगांवकर ने बताया तांदुला नदी में सेतु निर्माण का काम शुरू कर दिया गया है। जल्द ही निर्माण की गति तेज हो जाएगी। आने वाले एक साल के भीतर सेतु का निर्माण करना है।

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved