Thursday , Aug 17 2017

लोकप्रिय ख़बरें

ब्रेकिंग! फिर हुई पोटाकेबिन के आदिवासी छात्र की दर्दनाक मौत, अधीक्षक दबा रहा मामला

Rajasthan Patrika
13, Aug 2017, 02:00

बीजापुर. जिले के दुगईगुड़ा पोटाकेबिन में चौथी कक्षा में अध्ययनरत एक छात्र की करंट की चपेट में आने से मौत होने का मामला सामने आ रहा है। मिली जानकारी के अनुसार पोटाकेबिन का छात्र बुधराम कुडिय़म पिता मासा निवासी धारावरम की करंट की चपेट में आने से दर्दनाक मौत हो गई। जिससे दुगईगुड़ा पोटाकेबिन के अधीक्षक को मामला बडऩे का डर था। जिस कारण से पोटाकेबिन अधीक्षक इस मामले को दबाने की कोशिश कर रहा है। करंट की चपेट में आने से मौतघटना 6 अगस्त की बताई जा रही है। इस घटना की जानकारी जिला पंचायत सदस्य कमलेश कारम ने सूचना दी है। घटना की जानकारी पाते ही पुलिस की टीम भी इस मामले पर खोजबीन में लग गई है। ज्ञात हो कि बीजापुर जिले में ही कुछ दिनों पहले भी पामेड़ के पोटाकेबिन में एक छात्र की मौत हो गई थी। पोटाकेबिन अधीक्षकों की हो रही मनमानीबीजापुर जिले सहित अन्य जिलों में भी पोटाकेबिन व आश्रमों के जिम्मेदारों की लापरवाही से कई ऐसे मामले सामने आते रहते हैं। फिर भी प्रशासन इस ओर कोई ध्यान नहीं देता है, आंखें मूंदे बैठा हुआ है। दुगईगुड़ा के पोटाकेबिन में हुई करंट की चपेट में आकर बच्चे की मौत के बाद पोटाकेबिन अधीक्षक भी फिर वहीं गलती करने से नहीं चुक रहा है। जिपं सदस्य ने दिखाई मानवताबीजापुर जिले के जिपं सदस्य कमलेश कारम को जब इस घटना की जानकारी हुई तब वह इसकी सूचना पुलिस को दी। जिसके बाद पुलिस मौके पर पहुंचकर घटना की छानबीन में जुट गई है। पोटाकेबिन के अधीक्षक ने बच्चे की मौत को एक दुर्घटना बता कर मामले को दबाने की कोशिश में था। वहीं जिपं सदस्य ने मानवता दिखाते बच्चे के साथ हुई इस घटना का खुलासा किया है। कांग्रेसियों ने की अधीक्षक के निलंबन की मांगघटना के बाद यह भी बताया जा रहा है कि कांग्रेस ने प्रशासन को तत्काल मामले को संज्ञान में लेकर जांच कर अधीक्षक को निलंबित करने व मृत छात्र के परिजन को मुआवजा राशि देने की मांग की है। लीपापोती के इस खेल को खत्म कर आश्रम और पोटाकेबिन में छात्रों की मौत पर से जिम्मेदार हर दफे बचते आ रहे हैं जिससे उनका हौंसला और भी बुलंद होता जा रहा है। इस संबंध में कांग्रेस ने भी जिला प्रशासन और जिम्मेदार विभाग से यह मांग की है कि तत्काल आरोपी अधीक्षक पर कार्रवाई हो। यह भी कहा कि कार्रवाई नहीं होने पर उग्र आंदोलन करने बाध्य होगा। ऐसा नहीं होने पर कांग्रेसी ग्रामीणों के साथ कलक्टर कार्यालय का घेराव कर संबंधित अधीक्षक और विभाग पर एफआईआर की मांग करने मजबूर होगा।

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved