Thursday , Aug 17 2017

लोकप्रिय ख़बरें

श्रीकृष्ण ने इन 5 योद्धाओं को महाभारत में अपने छल से पराजित किया था, जानें कौन थे वो योद्धा

Live India
13, Aug 2017, 03:30

525 श्रीकृष्ण को पाडंवों की जीत का सूत्रधार माना जाता है। भागवत गीता के अनुसार जब अर्जुन अपने परिवारजनों को युद्धस्थल में देखकर अपना साहस खोने लगे और रणभूमि छोड़कर भागने लगे तो श्रीकृष्ण ने उन्हें गीता का ज्ञान दिया था। श्रीकृष्ण ने उन्हें बताया कि यदि अधर्मियों को पराजित कर धरा को पापमुक्त करना हो तो इसके लिए छल-कपट का सहारा लेना अधर्म नहीं होगा। महाभारत में श्रीकृष्ण की बुद्धि से ही पाडंवों ने कई अवसरों पर विजय पाई थी। आइए हम आपको बताते हैं भगवान श्रीकृष्ण ने अपनी बुद्धि से किन योद्धाओं को छल द्वारा पराजित किया था। भीष्म
607 भीष्म को इच्छामृत्यु का वरदान प्राप्त होने के साथ कोई पुरूष उन्हें पराजित नहीं कर सकता था। जबकि किसी स्त्री पर भीष्म शस्त्र नहीं उठाते थे। इसलिए श्रीकृष्ण ने भीष्म की मृत्यु के कारण के रूप में जन्मी शिखंडी का सहारा लिया और उसे रणभूमि में उतारा। द्रोणाचार्य
560 गुरू द्रोण को परास्त करना इतना सरल नहीं था। वो पुत्र मोह में बंधे हुए थे। जिसका नाम अश्वत्थामा था। इस प्रकार श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर को द्रोण को परास्त करने की एक युक्ति बताई। जिसके अनुसार युधिष्ठिर ने युद्ध भूमि में चिल्लाते हुए कहा कि अश्वत्थामा मर चुका है। वास्तव में युद्धभूमि में मारे गए एक हाथी का नाम अश्वत्थामा था। युधिष्ठिर उसके विषय में बोल रहे थे। लेकिन द्रोण को लगा कि उनका पुत्र मारा गया है और वो हताश होकर जमीन पर गिर पड़े। उनके जमीन पर घुटनों के बल गिरते ही पाडंवों ने गुरू द्रोण का वध कर दिया। जयद्रथ

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved