Monday , Aug 21 2017

लोकप्रिय ख़बरें

लड़की हूं और हिन्दुस्तानी भी, सबसे ज्यादा भारत में सुरक्षित महसूस करती हूं : हुमा कुरैशी

Live India
13, Aug 2017, 04:00

(290).jpg 394 बता दें कि हुमा ने यह बयान पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के कार्यकाल के अंतिम दिन दिए गए विदाई भाषण में मुसलमानों को असुरक्षित बताए जाने पर दिया है. हुमा ने आगे कहा कि भारत को आजाद हुए 70 वर्ष पूरे हो गए और इतने अच्छे माहौल में सकारात्म बातें ही अच्छी लगती हैं. भारत की आजादी के 70वें वर्ष में महिलाओं की आजादी की बात पर हुमा बोलीं, भारत में काफी सुधार हुआ है. बेसिक सुरक्षा तो सरकार लड़कियों को दे जा रही है मगर लड़कियों को खुद भी इतना मजबूत होना पड़ेगा कि उन्हें इसकी जरूरत न पड़े. दिल्ली विश्वविद्यालय से हिस्ट्री ऑनर्स में डिग्री हासिल कर चुकीं हुमा ने कहा, इतिहास मेरा हमेशा से पसंदीदा विषय रहा है.
(158).jpg 406 इस तरह आया पार्टीशन: 1947 का ख्याल : इस फिल्म की निर्देशक गुरिंदर चड्ढा ने बताया, मुझे यह फिल्म बनाने का आइडिया तब आया जब मैं अपने दादा का पुश्तैनी मकान खोजते हुए पाकिस्तान के झेलम शहर पहुंची थी. वहां मैंने बहुतों से पूछा कि क्या वो लोग मेरे दादा को जानते हैं. तब पता चला कि वो सभी सन 1947 में ही वहां आकर बसे हैं. इससे मुझे अंदाजा लग गया था कि कैसे रातों रात एक पूरा शहर अपना घर-जमीन छोड़कर दूसरी जगह बस गए. उसी प्लॉट को लेकर यह फिल्म बनाई गई है.
(36).jpg 394 विभाजन के सालों बाद हुई मुलाकात : हुमा ने बताया, विभाजन के वक्त मेरे दादा जी पाकिस्तान छोड़ दिल्ली में बस गए थे मगर मेरे पिताजी की दो बुआओं की शादी पाकिस्तान के एक शहर में हुई थी. पापा और दादा के भारत आ जाने के बाद उनका बुआ लोगों से मिलना-जुलना बंद हो गया था. काफी साल बाद दिल्ली में पापा के होटल में एक आदमी उन्हें ढूंढता हुआ आया और उसने उनका नाम पूछा. उसने बताया कि वह पापा की बुआ के बेटे हैं. सालों बाद पापा से मुझे जब इस बात का पता चला तो हम लोग काफी इमोशनल हो गए.

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved