Monday , Aug 21 2017

लोकप्रिय ख़बरें

राधा-कृष्ण का अनूठा मंदिर, मूर्ति नहीं ग्रंथ का करते हैं श्रृंगार, पान का लगता है भोग

Live India
13, Aug 2017, 04:30

459 यूं शहर में कई ऐसे मंदिर हैं, जो अपनी विविधता के लिए भक्तों की आस्था का केंद्र हैं, किंतु मल्हारगंज के पास गोराकुंड के इस राधा-कृष्ण मंदिर का मामला थोड़ा अलग है। करीब साल पुराने ग्रंथों को यहां मूर्ति की जगह स्थापित कर वर्षों से पूजा-अर्चना की जा रही है। लोगों को भी भगवान रूपी ग्रंथों में आस्था है। उनका कहना है कि उनकी सारी मन्नतें यहां पूरी होती हैं। 100 साल पुराना है मंदिर मल्हारगंज स्थित इस मंदिर का नाम राधाकृष्ण प्रणामी मंदिर है, जो लगभग 100 साल पुराना है। मंदिर में स्थापित ग्रंथों का प्राचीन काल से हिंदू धर्म में महत्व रहा है। प्रणामी संप्रदाय के गुरु प्राणनाथ ने ग्रंथों का अध्ययन किया तो उन्होंने जाना कि मूर्ति की तरह ही ग्रंथ भी प्रभावशील होते हैं, इसलिए मंदिर में श्रीकृष्ण स्वरूप साहब ग्रंथ स्थापित किए गए हैं। यहां प्रतिदिन बड़ी संख्या में लोग इनकी पूजा और दर्शन के लिए आते हैं।
498 पांच बार पूजा राधा-कृष्ण प्रणामी मंदिर अपने आप में अनूठा है। यहां स्थापित ग्रंथों को चांदी के सिंहासन पर विराजित किया है। इन्हें भगवान कृष्ण और राधा की पोषाक और मोर मुकुट पहनाया है। रोज दिन में पांच बार यहां पूजा होती है। प्रसाद में सिर्फ पान का उपयोग होता है। देखने से लगता है, मानो मूर्ति विराजित हो मंदिर में एकाएक जाने पर कोई पहचान ही नहीं पाता कि मूर्ति की जगह ग्रंथ रखे हुए हैं। शृंगार की वजह से ऐसा भ्रम होता है। ग्रंथों को पूरी तरह कृष्ण भगवान की तरह पूजा जाता है, इसलिए उन्हें झूला भी झुलाया जाता है।गोशाला और दीक्षा केन्द्र भी मंदिर का निर्माण होलकर राजघराने के पंच रहे मांगीलाल भंडारी ने करवाया था। यहां कई परंपराएं 100 साल से चली आ रही हैं। इसके तहत मंदिर के पीछे गोशाला और बच्चों के लिए दीक्षा केंद्र भी चलता है। श्री प्राणनाथ संस्था मंदिर संचालित करती है, जबकि देखरेख सुशीला भंडारी सेठानी; करती हैं।
467 महात्मा गांधी ने किया था अध्ययन सुशीला भंडारी बताती हैं, प्रणामी संप्रदाय के कई शहरों में मंदिर हैं। महात्मा गांधी ने अपनी आत्मकथा में प्रणामी मंदिर जाने का जिक्र किया है। मंदिर में विराजित ग्रंथ कुरान और पुराण दोनों को समान बताते हैं। महात्मा गांधी के मन में ईश्वर अल्लाह तेरो नाम और वैष्णव जन तो तेने कहिए.. वाले विचार इन्हीं ग्रंथों के अध्ययन के बाद आए थे।

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved