Tuesday , Aug 22 2017

लोकप्रिय ख़बरें

BRD मामले में कांग्रेस ने CM योगी से मांगा इस्तीफा, कहा कमीशनखोरी में गई बच्चों की जान

Rajasthan Patrika
13, Aug 2017, 05:00

वाराणसी. प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष और वाराणसी के पूर्व सांसद डॉ राजेश मिश्र ने बीआरडी कॉलेज में 30 बच्चों की मौत के लिए सीधे सीधे योगी सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने मीडिया के सामने सवाल उठाया कि कॉलेज में एक सप्ताह से ऑक्सीजन की कमी हो रही थी। ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी बार-बार सराकर और स्वास्थ्य निदेशालय को पत्र भेज रहा था। कॉलेज के प्राचार्य भी पत्र लिख चुके थे, उसके बावजूद सरकार चुप्पी साधे रही। फिर घटना के एक दिन पहले सीएम ने अस्पताल परिसर में छह घंटे तक समीक्षा की। वह काहे की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पूरा घटनाक्रम दर्शाता है कि प्रदेश की यह सरकार पूरी तरह से लापरवाह है। इसे एक पल भी सत्ता में रहने का हक नहीं। सीएम को मय कैबिनेट इस्तीफा दे देना चाहिए। वहीं प्रदेश के पूर्व मंत्री अजय राय ने योगी सरकार पर कातिल होने का आरोप लगया। कहा कि इससे ज्यादा घिनौना काम और क्या हो सकता है। उन्होंने कहा कि कमीशनखोरी के चक्कर में इतने मासूमों की जान ले ली गई। इस बीच कांग्रेस ने रविवार की शाम लहुराबीर स्थित आजाद पार्क में मृत बच्चों को मोमबत्ती जला कर श्रद्धांजलि दी। जिला कांग्रेस जन आंदोलन समिति के तत्वावधान मे रविवार को बीआरडी कॉलेज में मृत बच्चो की याद में एक श्रद्धांजलि दिवंगत बच्चों के नाम कार्यक्रम आयोजित किया गया। यहां कांग्रेसजनों ने मोमबत्ती प्रज्ज्वलित करने के साथ दो मिनट का मौन रहकर श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दारुण वक्त में मृतक परिवारों के प्रति के प्रति संवेदना प्रकट की। बच्चों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष डॉ राजेश मिश्रा ने गोरखपुर की घटना को सरकार की घोर लापरवाही व संवेदनशून्यता बताते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार बचकाना बयान से बाज आए और जनता को आंकड़ों में न उलझाए। नैतिकता व शुचिता की सर्वाधिक दुहाई देने वाले इतने गैर जिम्मेदार होंगे यह तो किसी ने सोचा भी न था। मौत एक प्राकृतिक सत्य है पर असमय मौत वह भी शासन व प्रशासन की लापरवाही से। यह कहीं से भी क्षम्य नहीं है। जांच के दायरे में स्थानीय प्रशासन व शासनिक विभाग को भी लेना आवश्यक है। पूर्व विधायक अजय राय ने कहा कि दुखियों पीड़ितों की सरकार का दावा करने वाली सरकार आत्ममुग्धता की शिकार हैं नौ रिमाइंडर व एक लीगल नोटिस के बावजूद सरकार का संवेदनशील विषय पर उचित ध्यान न देना यह दर्शाता है कि सरकार सत्तामद में चूर है। जनसुरक्षा व जनसुविधा की बहाली का प्रयास करना सरकार का दायित्व है पर यह सरकार बहुमत से मदान्ध है। अभी भी यह हर घटना को पूर्व की सरकारों पर थोपकर अपनी जिम्मेदारी से बचना चाहते हैं। जनता को मूर्ख बनाना बंद करें। डॉ मिश्रा व राय ने गोरखपुर की घटना को हृदय विदारक व मानवता की हत्या करार देते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री से त्यागपत्र की मांग करते हुए मृतक के परिजनों के लिए 20 लाख मुआवजा देने की मांग की।श्रद्धांजलि से पूर्व कांग्रेसजनों ने अमर शहीद चन्द्रशेखर आजाद की मूर्ति पर माल्यार्पण किया तत्पश्चात एक-एक मोमबत्ती बच्चों के नाम जलाकर दो मिनट का मौन रखकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की व बाबा विश्वनाथ से पिड़ित परिवारों को दुख सहने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की। आजाद पार्क में सर्वत्र मोमबत्ती जलाई गई थी। कार्यक्रम का संयोजन जिला कांग्रेस जन आंदोलन समिति के प्रभारी अनिल श्रीवास्तव अन्नु ने किया। इस मौके पर पूर्व विधायक कैलाश टण्डन, दुर्गा प्रसाद गुप्ता, अशोक चौरसिया, राहुल राज, पूनम कुंडू, राघवेन्द्र चौबे, हरीश मिश्रा, विकास सिंह, दिनेश तिवारी, प्रमोद श्रीवास्तव, राजेश मिश्रा गुड्डू, प्रमोद वर्मा, रियाज अहमद, धीरज शुक्ला, सैयद साजिद अली, दिग्विजय सिंह, मंगलेश सिंह, अशोक त्रिपाठी, जन्तलेश्वर यादव, राजेश त्रिपाठी, राहुल दूबे, सिद्धांत सिंह, जितेन्द्र पांडेय आदि मौजूद थे।

चर्चित खबरें

सुझाया गया

loading...

रेकमेंडेड आर्टिकल्स

ट्रेंडिंग वीडियो

loading...
© Copyright © 2017 Newsfiller All rights reserved